421-1982-Buz Sawyer - Vinashchakra


Here is one more missing Hindi Indrajal thanks to a our reader Ishwar Singh bhai jee... 
Amazing passion for sharing. 

This comics is available with some of us in better quality. But, decided to share his scans to say him thanks. 🙇
He took his IJCs, went to a scanning center, paid and send me raw scans of 392 and 421.
When I requested to not pay for scanning, as we've scanners, he was ready to send by courier his 16 binded Indrajal to me in Russia or India... anyhow I was able to stop him.

After basic editing  I passed #392 to Rajesh jee as  he sent 9 pages to make it better, and requested him to share both versions. He shared mixed version with scans by Ishwar  jee only.
Rajesh has told half background story about his selfless efforts...
To make this number c2c, Vidyadhar jee had done similar work..
Salute to all of You! 🖖
There is one more friend who touched my heart,  about him in his contribution post..

Thanks friends. In future anyone who wish to contribute, pls before contribution check with us, now we are missing some under #300 only. Yes, some help is also required to make some earlier issues "cover to cover."


Comics title: विनाशचक्र  (The Race For Power)

Year: 1982
Cover artist: शेहाब (Shehab )

Story: Roy Crane (?)
Original run: NA

A. Raw scans contributions:
1. Cover and story pages: Ishwar Singh
2. Missing  Pages and better cover: Vidyadhar Yagnik
B. Basic editing: PBC
C.
Enhanced version: Rajesh Kumar


For Offline Reading (Enhanced ver.)

If anyone can enhance and give new books look without breaking of colours (near to original), please share with us too.
Continue Reading...

इंद्रजाल कोमिक्स 392 -मौत के घेरे में (बज सायर -Buz Saywer)

आज का यह अपलोड कुछ खास है क्युंकि हमारे ब्लॉग के एक Reader भाई ईश्वर सिंह जी ने हमारे कुछ Missing शीर्षकों में से कुछ अंको को स्कैन करवा कर हमलोगों के साथ शेयर किया है. हालाँकि मैंने उनके शेयर किये गए पन्नों में से कुछ पन्नो को बदल कर (क्युंकि उनकी एडिटिंग कुछ मुश्किल थी) वापिस यहाँ इस ब्लॉग के सभी Readers के लिए अपलोड कर  रहा हूँ | मैं उनके इस प्रयास के लिए हृदय से शुक्रगुज़ार हूँ |  आशा है,आप हम Blogger तथा अन्य Readers के लिए भविष्य में भी यूँ ही अपना सहयोग देते रहेंगे |  परन्तु कृपया Scan करवाने के पहले हम Authors से संपर्क कर लें क्युंकि हम सबों का भी प्रयास उन मिसिंग लिस्ट को न्यूनतम करने की और है और शायद वो अंक दुबारा Scan हो जाये | परन्तु एक बार पुनः भाई ईश्वर सिंह जी को धन्याद ! लीजिये पेश है..........

392 "मौत के घेरे में"




Continue Reading...

इंद्रजाल कोमिक्स V21N17 -बर्फ की आग (ड्रेक -Let. Drake)


V21N17 "बर्फ की आग"




Continue Reading...

इंद्रजाल कोमिक्स V21N44 -फौलादी बहादुर (बहादुर -Bahadur)


V21N44 "फौलादी बहादुर"




Continue Reading...

इंद्रजाल कॉमिक्स #1 - वेताल की मेखला (१९६४)


प्रस्तुत है .... 
रोहित शर्मा जी के  🎂 जन्मदिन 🎂के शुभ अवसर पे, 
प्रथम हिंदी इंद्रजाल कॉमिक्स की एक अच्छी प्रतिलिपि  .... 

सोचने की कोशिश करता हूँ ज़माने की, जब मेरा जन्म भी नहीं हुआ था, भारत में comics culture भी उतना विकसित नहीं था|  

मार्च १९६४ में, इस cover page "घोड़े पे सवार एक नकाबपोश एक कुत्ते के साथ" को देखकर लोगों की प्रतिक्रिया क्या हुई होगी? यह अलग बात है, बाद में  पता चला कि वो कुत्ता नहीं भेड़िया है। उस समय २८ पन्नों  के लिए ६० पैसे कोई छोटी रकम नहीं थी|

हिंदी अनुवाद जरुरत से अधिक साहित्यिक बनाने की कोशिश भी  हुई, वेताल की कहानियों के साथ १-२ पन्नों का ज्ञानवर्धक जानकरियाँ भी छापने की शुरुआत हुई, जो समय  के साथ हम अकसर १ पन्नों का कॉमिक्स या रिप्ले का "मानों न मानो" में बदलता देखते हैं ... 

आगे की कहानी आगे ...अभी तो इस अंक के बारे में
यह है: 
Sunday strips # S037 - The Belt 
Original run in the papers: 7 Feb 1954 - 6 Jun 1954 
Script: Lee Falk 
Art: Wilson McCoy

इंद्रजाल का समय के  साथ बहुत ही लोकप्रिय होने का शायद दो कारण हैं:
१.  Cover Art
२.  रंगीन strips panels

मेरी नजर में तो Indrajal Comics भारत का सबसे  लोकप्रिय कॉमिक्स था.....
१९९० में बंद हुआ था, आज २७ साल बाद भी हम दीवानों की तरह खोजते हैं, पढ़ने के लिए बेचैन रहते हैं।
वेताल की वो भी कहानियाँ  मिल गयीं जो यहाँ न छपी थीं, रंगीन पन्ने भी मिल गये , वो पर वो जादु कहाँ ?
.
आज हम इस अंक के बारे में बहुत तर्क- वितर्क कर सकते, पर कुछ भी कह लीजिये - #१  तो #१ ही रहेगा, बड़ी मुश्किल से हम आज share कर पा रहे हैं| हद हो  गयी थी, भारत में English कब का मिल गया गया था, बाकी missing page भी| पर यह .... 

"अजय"  की वर्षों की खोज, फिर "देशीगुरु" जी की कृपा से missing पेज का cam version, फिर उसको ठीक करने में    "विद्याधर" जी के साथ कई  दिंनो की मेहनत को देख...मेरा भी दिल नहीं कहता था कि सीधा  उठा  share कर दूँ|  करीब ११ महिनों से मेरे पास था, कई कोशिशों के बाद आज मैं मन लायक re-edited बना पाया, उम्मीद है पसंद आएगी| मैं अभिषेक कपूर जी को भी तहे दिल से धन्यवाद दूँगा क्योंकि मेरी अनुग्रह पे वो भी अच्छी  re-edited version  बनाने का प्रयास कर रहे थे| Thanks all friends !














For Offline Reading >>
Continue Reading...

इंद्रजाल कोमिक्स V22N17 -चालक चोर (मैनड्रैक -Mandrake)

और आज पेश है ....

V22N17 "चालक चोर"




Continue Reading...

इंद्रजाल कोमिक्स V20N38 & 39 - वेताल का हीरा भाग 1 एवं 2 (वेताल -Phantom)


इंद्रजाल नंबर V20N38 & 39 "वेताल का हीरा भाग 1 एवं 2"

   



Continue Reading...

इंद्रजाल कोमिक्स V20N30 - प्रलय की घटाएं (फ़्लैश गॉर्डन -Flash Gorden)


इंद्रजाल नंबर V20N30 "प्रलय की घटाएं"




Continue Reading...

इंद्रजाल कोमिक्स V20N32 - वहशी शहज़ादा (मैनड्रैक-Mandrake)

और Missing List को छोटी करते हुए आज पेश है ....

इंद्रजाल नंबर V20N32 "वहशी शहज़ादा"




Continue Reading...
 

Indrajal Online Copyright © 2007-2017 WoodMag is Designed by Ipietoon